सभी युगों में आने वाले संतों-महापुरुषों में निःस्वार्थ भाव क समान होता है। परम पूज्य संत राजिंदर सिंह जी महाराज