ध्यान-अभ्यास की शक्ति द्वारा इस संसार की माया से बाहर निकलि। परम पूज्य संत राजिंदर सिंह जी महाराज